गूगल (GOOG)

कंपनी का इतिहास

1996 में Google की शुरुआत एक शोध प्रोजेक्ट के रूप में हुई। लेरी पेज और सर्गे ब्रिन, स्टैनफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के छात्र, ने अनूठे PageRank algorithm के साथ अपना सर्च इंजन विकसित किया, जिसे इस प्रकार बनाया कि वह किसी खास वेब पृष्ठ के बैकलिंक डेटा को महत्व की माप में बदल देता था, इससे कि वह अधिक प्रासंगिक खोज नतीजे प्रदान करता था। 

एंडी बेक्टोल्शियम ने एक दांव लगाया और अगस्‍त 1998 में Google को 100,000 डॉलर की पहली फ़ंडिंग दी, हालांकि यह कंपनी अभी तक अस्तित्व में भी नहीं आ पाई। सितंबर 1998 में Google की स्थापना हुई, और दांव तब सफल हो गया जब लोगों ने मौजूदा सर्च इंजनों की तुलना में गूगल बेहतर परिणाम पाए। 

कंपनी लगातार प्रगति करती गई और 19 अगस्त 2004 को इसका पहला आईपीओ निकला। आज, Google हर जगह है। ” Google करना” वाक्यांश अनेक भाषाओं में आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली क्रिया बन गया है। Google ने अपना खुद का वेब ब्राउज़र, ऑपरेटिंग सिस्टम, और स्मार्टफ़ोन की श्रृंखला आरंभ की है। गूगल अर्थ, गूगल ड्राइव, गूगल वॉयस, एडवर्ड्स, और जीमेल आज बाज़ार में हावी कुछ गूगल सर्विसेज हैं। 

Google की ट्रेडिंग: आपको क्या जानना चाहिए

  • Google, नैस्डेक एक्सचेंज पर ट्रेड करता है। 2004 में, आईपीओ की कीमत 85 डॉलर प्रति शेयर थी। 31 मार्च 2006 को Google को एसएंडपी 500 में स्थान दिया गया और इसके शेयर की कीमत में तुरंत 7% की बढ़ोत्तरी हो गई। अक्टूबर 2013 में, शेयर की कीमत पहली बार 1,000 डॉलर के ऊपर बंद हुई। Google अपने शेयरधारकों को लाभांश का भुगतान नहीं करता, लेकिन इसकी तेज़ वृद्धि और ऊंची शेयर कीमत इसे एक अत्यंत लोकप्रिय निवेश बनाती हैं। स्टॉक के प्रदर्शन का मूल्यांकन और कीमत में हलचलों का पूर्वानुमान करते समय Google की वार्षिक रिपोर्ट और त्रैमासिक आय रिपोर्टों पर नज़र डालना सबसे ज़रूरी बातों में से एक है। 
  • Google का AdWords और AdSense पर केंद्रित विज्ञापन व्यवसाय मॉडल, उपभोक्ताओं को लक्षित विज्ञापन दिखाने हेतु खोज इतिहास का उपयोग करते हैं। Google को स्मार्टफ़ोन तकनीकी और अन्य उत्पादों से भी आय प्राप्त होती है, लेकिन इसकी अधिकांश आय विज्ञापन से आती है। Google के भविष्य की सफलता आय के अन्य स्रोत विकसित करने की इसकी क्षमता पर निर्भर करेगी।
  • हाल के वर्षों में Google ने अनेक अधिग्रहण किए, जिसमें 2006 में Youtube.com का अधिग्रहण सबसे यादगार था। कंपनी निरंतर नवोन्मेषी और व्यवहारिक तकनीकी समाधान दे रही है और इसकी प्रगति कमजोर होने का कोई संकेत नज़र नहीं आ रहा। अधिकतर विश्लेषक Google स्टॉक को सशक्त खरीदी मानते हैं। 

Google का निरंतर फैलाव हो रहा है और प्रभुत्वशाली बनता जा रहा है, लेकिन देखना यह होगा कि ऐसा कब तक चलता है। Google स्टॉक की ट्रेडिंग करने के इच्छुक व्यक्ति ट्रेडिंग करने से पहले बाज़ार की स्थितियों का सावधानी से विश्लेषण करना चाहिए। 

GOOG को ट्रेड करें